Tuesday, January 3, 2017



मैं रात भर,

सिर्फ़ इसलिए जगता रहा,
कि ये हवा जो चल रही है,

न जाने कितनी दूर होगी

... कल सुबह। 

No comments:

Post a Comment